उत्तर प्रदेश

जानिए क्या है उत्तर प्रदेश सरकार की समाजवादी एम्बुलेंस सेवा, ऐसे मिलेगा लाभ

जानिए क्या है उत्तर प्रदेश सरकार की समाजवादी एम्बुलेंस सेवा, ऐसे मिलेगा लाभ

उत्तर प्रदेश की पूर्व समाजवादी एम्बुलेंस सेवा को अब गंभीर मरीजों के लिए “एडवांस लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस सेवा (एएलएस)” के नाम से शुरू कर दिया है। इस योजना को 13 अप्रैल, 2017 में मुख्यमंत्री योगी द्वारा 5 कालिदास मार्ग पर एएलएस को हरी झंडी दिखाई। इस योजना में योगी के आदेश अनुसार राज्य के सभी जिलों में 2-2 एम्बुलेंस उपलबध करवाई जाएगी। इन एम्बुलेंस में सभी आधुनिक सुविधाएं दी जाएगी।

इन एम्बुलेंस में ICU से सम्बंधित सभी सुविधाएँ होंगी ताकि गंभीर मरीज को दूर के अस्पतालों तक समय पर पहुंचाया जा सके। मुख्यमंत्री ने बताया की इस योजना के लिए केन्द्र सरकार धन प्रदान करेगी और इस योजना को संचालित रखना राज्य सरकार की जिम्मेदारी होगी।

एडवांस लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस सेवा क्या है

एएलएस यानी ‘एडवांस लाइफ सपोर्ट एंबुलेंस सेवा’ के तहत हर जिले को दो-दो विशेष एंबुलेंस दी जाएंगी। ये निशुल्क सेवा केवल क्रिटिकल मरीजों को मिलेगी। हर मुख्यालय में उपलब्ध होगी या एंबुलेंस एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल ले जाने का काम करेगी। इसके उपयोग के लिए सीएमओ डायरेक्टर या डॉक्टर से परमीशन लेनी होगी। इससे क्रिटिकल केयर के मरीज, हार्ट की प्रॉब्लम वाले गंभीर मरीज, डिलीवरी के सीरियस मरीज, नवजात शिशु या फिर किसी भी अति गंभीर मरीज को को लाभ मिलेगा। एएलएस एम्बुलेंस के अंदर एक वेंटिलेटर लगाया गया है।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है मध्य प्रदेश सरकार की 20 अटल आश्रय योजना, ऐसे मिलेगा लाभ

वैन के अंदर एक आटोमेटेड एक्सटर्नल डिफेबरीलेटर डिवाइस लगाई गई है। इसमें एक मल्टी पैरा मॉनिटर डिवाइस लगाई गई है। इमरजेंसी में मरीजों को दी जाने वाली सभी जरूरी दवाएं उपलब्‍ध रहेंगी।

एडवांस लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस सेवा को शुरु करने का उद्देश्य

इस एम्बुलेंस सेवा का उद्देश्य सुदूर ग्रामो में गम्भीर मरीजों को समय पर प्राथमिक उपचार के साथ अस्पताल पहुंचाना है। एम्बुलेंस सेवा ग्रामीण इलाके के लोगो के वरदान साबित होगी क्योंकी ग्रामीण इलाकों में आज भी संसाधनो की कमी है। इस एम्बुलेंस सेवा से मरीजो को वक्त रहते अस्पताल पहुँचाया जा सकेगा साथ ही एम्बुलेंस में ICU से सम्बंधित सभी आधुनिक उपकरण से युक्त किया गया है। ये एम्बुलेंस मरीजों के लिए चलता-फिरता ICU अस्पताल होगा।

एडवांस लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस सेवा कि विशेषता

·         इस योजना के तहत राज्य में सभी जिलों में 2-2 एम्बुलेंस उपलब्ध करवाई जाएंगी।

·         इस योजना का निशुल्क लाभ केवल गंभीर मरीज को ही मिलेगा।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है पीएम मोदी की स्वदेश दर्शन योजना, देश में बढ़ेगा पर्यटन

·         यह एम्बुलेंस सभी मुख्यालयों में उपलब्ध होंगी और एक अस्पताल से दूसरे अस्पताल तक ले जाने का काम करेगी।

·         इस सेवा का लाभ लेने के लिए CMO, डायरेक्टर या डॉ. से परमिशन लेनी होगी।

·         इस योजना के अंतर्गत एम्बुलेंस सेवा गंभीर मरीजों जैसे : हार्ट की प्रॉब्लम, डिलीवरी, नवजात शिशु या किसी भी अति गंभीर मरीज को लाभ मिलेगा।

·         एएलएस एम्बुलेंस सेवा में आपातकालीन कि स्थिति के लिए वेंटिलेटर कि सुविधा दी गई है।

·         एम्बुलेंस वैन के अंदर एक आटोमेटेड एक्सटर्नल डिफेबरीलेटर डिवाइस लगाई गई है।

·         और साथ ही, इसमें एक मल्टी पैरा मॉनिटर डिवाइस लगाई गई है।

हर जिले को 2 एम्बूलेंस दी मुख्यमंत्री ने

मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने स्‍वास्‍थ्‍य विभाग में दो साल से खड़ी एम्बुलेंस को मरीजों की सेवा के लिए सड़क पर उतार दिया। बड़े शहरों को छोड़कर प्रदेश के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में चिकित्सकों की उपस्थिति नही हो पाती थी। विपरीत परिस्थितियों में अगर आपके पास ऐसी एम्बुलेंस नही है तो मरीज रास्ते मे ही दम तोड़ देगा। ऐसी परिस्‍थिति में किसी के जीवन को बचाने में ये एम्बुलेंस सेवा मदद करेगी। इसलिए हर जिले को फिलहाल 2 एम्बुलेंस दी जा रही है।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है उत्तर प्रदेश सरकार की 'सचल पालना गृह योजना', ऐसे मिलेगा लाभ

एडवांस लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस सेवा से जुडी खास बातें

·         प्रदेश के 75 जिलों के लिए कुल 150 एम्बुलेंस का संचालन प्रारम्भ किया जा रहा है।

·         परियोजना की कुल लागत लगभग 95 करोड़ है।

·         जिसका कुल खर्च केंद्र सरकार की तरफ से दिया जायेगा।

·         सेवा एजेंसी द्वारा लखनऊ में कंट्रोल रूम स्थापित किया गया है।

·         प्रत्येक एम्बुलेंस में जी.पी.एस. की व्यस्था रहेगी।

·         जिससे इनकी मॉनिटरिंग की जाएगी।

·         प्रदेश की जनता को निशुल्क सेवा उपलब्ध करायी जाएगी।

·         जिले के सी.एम.ओ /सी.एम.एस की काल के आधार पर कंट्रोल रूम से मरीजो को एम्बुलेंस उपलब्ध करायी जाएगी।

·         एम्बुलेंस में कोई खराबी आती है और मरीज को कोई परेशानी होती है तो 10000 रुपए की पेनाल्‍टी का प्रावधान।

·         कर्मचारियों की जिम्मेदारी तय की जाएगी।

·         उत्तर प्रदेश की स्वास्थ सेवा को नई ऊंचाई मिलेगी।

·         15 मिनट के भीतर हर व्यक्ति को एम्बुलेंस मिलेगी।

Click to comment

Most Popular

To Top