उत्तर प्रदेश

जानिए क्या है उत्तर प्रदेश सरकार की ‘सचल पालना गृह योजना’, ऐसे मिलेगा लाभ

जानिए क्या है उत्तर प्रदेश सरकार की सचल पालना गृह योजना, ऐसे मिलेगा लाभ

उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ‘सबका साथ सबका विकास’ अपने नारे पर खरी उतरती है। योगी सरकार न केवल गरीब व बेरोजगार परिवार को रोजगार देती है, बल्कि उनके बच्चों की भी सही देखरेख का ध्यान रखती है। इन्हीं कामकाजी मजदूरों के बच्चों की उचित देखभाल व शिक्षा के लिए योगी सरकार ने योजना बनाई हुई है। इस योजना का नाम है ‘सचल पालना गृह योजना’।

क्या है इस योजना का उद्देशय

इस योजना का मुख्य उद्देश्य कामकाजी महिला निर्माण श्रमिकों के कार्य पर रहने अथवा उनकी बीमारी की दशा में उनके बच्चे, जिनकी उम्र 6 साल से नीचे की है… उनकी देखभाल के साथ-साथ इन बच्चों के शारीरिक व मानसिक विकास हेतु शैक्षिक, मनोरंजन व अल्पावास के दौरान भोजन की सुविधाएं प्रदान किया जाना है।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है राष्ट्रीय बाल स्वच्छता अभियान, महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने योजना की शुरू

इसके अलावा बच्चों के विकास हेतु परिवार परामर्श केन्द्र एवं अल्पावास गृह जैसी योजनाओं के माध्यम से महिला निर्माण श्रमिकों को बच्चा की देखभाल के सम्बन्ध में जानकारी प्रदान किया जाना भी इस योजना का उद्देश्य है।

किन्हें मिलेगा इस योजना का लाभ

पंजीकृत सभी महिला निमार्ण श्रमिक, जिनके बच्चे की उम्र 6 साल से कम की है। वह इस योजना का लाभ ले सकते हैं।

वो पुरूष श्रमिक जिनके बच्चे की उम्र 6 साल से कम है व जिनकी माता नहीं है।

जिस श्रमिक के पास अपना घर व पक्का मकान नहीं हो।

केन्द्र अथवा प्रदेश सरकार की किसी भी अन्य योजना में आवास अथवा आवासीय सुविधा हेतु सहायता का लाभ पाने वाले पंजीकृत निर्माण श्रमिक इस योजना के अंतर्गत पात्र नहीं होंगे।

इसे भी पढ़े   हरियाणा सरकार दिव्यांगों को मुफ्त में देगी स्मार्ट फोन, ऐसे करें आवेदन

कैसे करें योजना के लिए आवेदन

योजना का लाभ लेने के लिए लाभार्थी को बोर्ड द्वारा निर्गत प्रमाण पत्र की छाया प्रति प्रस्तुत करनी होगी।

श्रमिक सीधे पालना गृह में अपने बच्चों को प्रवेश दिला सकते हैं।

Click to comment

Most Popular

To Top