मुख्यमंत्री योजना

जानिए क्या है हरियाणा में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, अब सीधे खाते में आएगा पैसा

जानिए क्या है हरियाणा में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, अब सीधे खाते में आएगा पैसा

जानिए क्या है हरियाणा में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना, अब सीधे खाते में आएगा पैसा


हरियाणा सरकार नें प्रदेश में वित्तीय वर्ष 2017-18 के लिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना की अधिसूचना जारी की है। योजना ख़ासतौर से उन किसानों के लिए लागू की गई है। जिन्हें आपदाओं के कारण फसलों पर अधिक नुकसान झेलना पड़ता है। योजना के तहत ऐसे किसानों को वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी ताकि वो अपने नुकसान की कुछ तो भरपाई कर सकें।

क्या है प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना

What is the Prime Minister’s Crop Insurance Scheme

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी के अधीन लागू की गई प्रमुख योजनाओं में से एक है। जिसे भारत के प्रत्येक राज्य में लागू किया गया है। वहीं हरियाणा पहला राज्य है जिसने इस योजना की अधिसूचना सबसे पहले जारी की है।

योजना के तहत उन लोगों को वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है जिनकी फसल आपदा, सुखा या अन्य कारण से खराब हो गई है। योजना के तहत ऐसे किसानों को फसल बीमा के रुप में वित्तीय सहायता देने की योजना है।

योजना लागू करने का प्रमुख उद्देश्य

The main purpose of the plan implementation

दरअसल कृषि प्रधान देश भारत में किसानों की स्थिति को लेकर हमेशा से ही घमासान रहा है। जहां किसानों को प्राकृतिक आपदाओं की मार झेलनी पड़ती है तो वहीं ऐसे किसानों को आत्महत्या जैसे कदम उठाने पड़ जाते है। इसी कारण ‘प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना’ की शुरुआत की गई ताकि फसल में होने वाले नुकसान पर किसानों को बीमा कवर किया जा सके।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है हिमाचल सरकार की मुख्यमंत्री ज्ञानदीप योजना, 12वीं पास को सरकार देगी पैसा

योजना की जरूरी बात

Necessary point of plan

योजना के अंतर्गत वर्ष 2017-18 में खरीफ मौसम के दौरान धान, बाजरा, मक्का और कपास की फसलों को वित्तीय सहायता प्रदान की जाएगी।
इसके अतिरिक्त रबी मौसम के दौरान गेहूं, चना, जौ और सरसों की फसलों को कवर किया जाएगा।

हरियाणा राज्य में प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना को कल्सटर के आधार पर लागू किया गया है।

योजना के तहत बीमार्थी किसानों को फसलों के नुकसान होने पर आर्थिक सहायता प्रदान की जाएगी।

योजना के द्वारा लाभ लेने के लिए 14 दिन पहले सपंर्क करना अनिवार्य है।

इस योजना का लाभ प्रत्येक ऋणी किसान उठा सकता है जबकि गैर ऋणी किसान के लिए योजना स्वैच्छिक है।

योजना के अंतर्गत फसल का नुकसान ऋणी किसानों को बैंक के बैंक रिकोर्ड में दर्ज फसल के आधार पर किया जाएगा।

अधिसूचना में बीमा किए जाने वाले क्षेत्रों, फसलों, नुकसान, बीमा की गई राशि, प्रिमियम दरें और विभिन्न प्रकार की आपदाएं सूचित की गई है।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है हरियाणा सरकार की दीनदयाल जन आवास योजना, ऐसे पाएं लाभ

इन नुकसान में मिलेगा बीमा का पैसा

Insurance will be found in these losses

बरसात की कमी से फसल खराब होना


बरसात की अधिकता से फसल नुकसान


तुफान

साईक्लोन

अन्य परेशानी के कारण फसल का खराब होना आदि।


योजना को हरियाणा द्वारा तीन प्रमुख कलस्टर में वर्गीकृत किया गया
।

कलस्टर 1:- सिरसा, भिवानी, फरीदाबाद, कुरुक्षेत्र, कैथल, पंचकुला और रेवाड़ी शामिल है।

कलस्टर 2:- हिसार, सोनीपत, गुड़गांव, करनाल, अम्बाला, जींद और महेंद्रगढ़ जिले को शामिल किया गया है।

कलस्टर 3:- फतेहाबाद, रोहतक, झज्जर, मेवात, पलवल, पानीपत और यमुनानगर शामिल किए गए है।

फसल बीमा योजना में मिलेगा इतना पैसा

So much money will be available in crop insurance scheme

कपास– 60,000- 3,000- 1,200- 1,800

धान– 62,500 – 775

बाजरा– 27,500 – 1,304 – 550 – 754

मक्का– 2,500 – 1,000 – 500 – 500

रबी फसलों के लिए

Rabi crops

गेहूं– 5,5000 – 682

जौ– 2,5000 – 1000 – 375 – 625

सरसों– 27,500 – 1,304 – 1,413 – 891

चना– 25,000 – 1,000 – 375 – 625
(धनराशि  प्रति हेक्टयर देय होगी)

फसल बीमा योजना का तरीका

Method of crop insurance scheme

प्राकृतिक आपदा अथवा बीमारियों के प्रकोप से फसलों को हुए नुकसान के आंकलन के लिए विभिन्न स्तरों पर समिति का गठन किया जाएगा।
समिति निर्धारित अवधि में अपनी रिपोर्ट पेश करेगा।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है मुद्रा लोन योजना, कैसे पाएं 10 लाख रुपए तक का लोन

संबंधित बीमा कंपनी, फसल बीमा योजना के तहत लाभ प्राप्त करने वाले लगभग 5 प्रतिशत लाभार्थियों की जांच कर रिपोर्ट जिला स्तरीय निगरानी समिति को प्रस्तुत करेगी।

जिला स्तरीय निगरानी समिति अपने स्तर पर लगभग 10 प्रतिशत लाभार्थियों की जांच करके इसकी रिपोर्ट कृषि एवं किसान कल्याण विभाग के निदेशक को सौंपेगा।

रिपोर्ट के आधार पर ही बीमा कंपनी द्वारा नुकसान कवर किया जाएगा।

फसल बीमा योजना में आवेदन

Application in PM Fasal Bima Yojana

योजना के तहत किसानों को सबसे पहले अपनी फसलों का बीमा करवाना होगा।

यदि प्राकृतिक आपदा या बीमारियों के प्रकोप से फसलों को कोई नुकसान पहुंचता है तो उसकी प्रतिपूर्ति संबंधित बीमा कंपनी द्वारा की जाएगी।

योजना के अंतर्गत बीमा कंपनी खेत में खड़ी नर्सरी से लेकर कटाई के 2 हफ्ते बाद तक अलग अलग स्थितियों में फसलों को सुरक्षा देगी।

योजना से जुड़ी जरूरी जानकारी

अभी अप्लाई के लिए यहां क्लिक करें

अधिक जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

Click to comment
To Top