जानिए क्या है हरियाणा सरकार की प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि केंद्र योजना
प्रधानमंत्री योजना

जानिए क्या है हरियाणा सरकार की प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि केंद्र योजना

प्रदेश में लोगों के लिए स्सती दवाई मुहैया कराने के लिए नई योजना शुरू की है। प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि केंद्र के तहत लोगों को सस्ती दवाई मुहैया कराई जाएगी। शहर में दवा की 4 सरकारी दुकानें खोली गई हैं। जहां पर मेडिकल स्टोर की तुलना में 70से 80 फीसदी तक सस्ती दवाएं मिल रही हैं।

हार्ट की जो दवा मेडिकल स्टोर पर 75 रुपए की है वह इन दुकानों पर 5 रुपए में, शुगर की 80 रुपए वाली दवा 18 रुपए में और गैस का 170 रुपए वाला पत्ता मात्र 18 रुपए में मिल रहा है। इन सरकारी दुकानों पर सभी तरह की बीमारियों की दवा उपलब्ध है। दवाएं सरकारी मानकों पर पूरी तरह फिट है, क्योंकि इस पर सरकार की मुहर लगी होती है। लोगो में दवाइयों की  सरकारी दूकान खुलने से खाशा उत्शाह नज़र आ रहा है।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है उत्तर प्रदेश सरकार की मिशन परिवार विकास योजना, ऐसे मिलेगा लाभ


यूरो ऑफ फार्मा पब्लिक सेक्टर अंडरटेकिंग्स ऑफ इंडिया से अनुमति मिलने के बाद यह दुकानें खोली गई हैं। प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि केंद्र के नाम की यह सरकारी दुकानें खुलने से निजी मेडिकल स्टोर संचालक परेशान हैं और इन्हें फेल करने में लगे हैं। इन औषधि केंद्रों से खासतौर पर आम आदमी को खासी राहत मिलेगी।

जेनरिकसस्ती दवा बहुत अच्छी है। इसमें वही सब है जो ब्रांडेड कंपनियां देती हैं। बहुत डॉक्टर और मेडिकल स्टोर संचालक लोगों में भ्रम फैला रहे हैं कि सस्ती जेनरिक दवा ठीक नहीं होती। इन्हें अपनी कमाई बंद होने का डर है। 

मॉडल टाउन में रविंद्रा अस्पताल के अपोजिट ,सिविल अस्पताल के पीछे देवी मूर्ति कॉलोनी में ,सलारजंग गेट, एशियन स्कूल के पास , सनौली रोड पर लोटस अस्पताल के पास से जेनरिक दवाइयां खरीद सकते हैं। लोगोंको जेनरिक दवा के बारे में पता चल रहा है। उनके पास काफी डॉक्टर भी जेनरिक दवा लेने आते हैं। जो अपने अस्पताल में जाकर लोगों को कहते हैं कि जेनरिक असर नहीं करती। सरकार के इस कदम को सभी आगे बढ़ाएं। जेनरिकदवा ब्रांडेड दवा की क्वालिटी में कोई फर्क नहीं है। मेडिकल स्टोर संचालक लोगों को यह कहकर बहकाते हैं कि जेनरिक दवाएं असर नहीं करतीं। 

जेनरिकब्रांडेड दवा के दाम में कम से कम 70 से 80  प्रतिशत का फर्क है। गरीब व्यक्ति भी आराम से जेनरिक दवा को खरीद सकता है। सरकार के इस कदम से दवा के नाम पर लूट कम हो रही है।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना, करें ऑनलाइन अप्लाई

इनसरकारी दुकानों पर सरकार द्वारा बनाई गई जेनरिक दवा मिलेगी। वहीं, निजी मेडिकल स्टोर वाले कंपनी की महंगी दवा आपको बेचते हैं। मसलनहार्ट की दवा के रूप में क्लोपिडॉगरैल साल्ट यूज होता है। यही साल्ट सरकारी दुकान में 12 रुपए का पत्ता मिलेगा और ब्रांडेड निजी कंपनी का 75 रुपए में। इसी तरह से कंपनी के लेबल का खेल चलता है। ड्रग कंट्रोलर रितु का कहना है कि सरकार ने सभी डॉक्टरों को भी जेनरिक दवा लिखने के आदेश दिए हैं। 

जानिए क्या है हरियाणा सरकार की प्रधानमंत्री भारतीय जन औषधि केंद्र योजना
Click to comment
To Top