प्रधानमंत्री योजना

जानिए क्या है मोदी सरकार की E Basta योजना, ऐसे भारत बनेगा डिजीटल भारत

जानिए क्या है मोदी सरकार की E Basta योजना, ऐसे भारत बनेगा डिजीटल भारत

प्रधानमंत्री मोदी नरेन्द्र मोदी का सपना है भारत को डिजीटल भारत बनाना इस दिशा में मोदी जी ने कई योजनाऐं बनाई है। इस तरफ आगे बढ़ने के लिए सबसे पहले शिक्षा के क्षेत्र में डिजीटलाईजेशन होना सबसे ज्यादा जरुरी हैं। क्यूंकि जब तक युवा वर्ग समय के साथ आगे बढ़ना नहीं सीखता तब तक देश की उन्नति नहीं हो सकती। इस दिशा में ई बस्ताl एक अच्छी शुरुवात है।

क्या है ईबस्ता पोर्टल

बस्ता मतलब छात्रो का ऐसा झोला जिसे वो अपने स्कूल लेकर जाते हैं जिसमे स्कूल की किताबे राखी जाती हैं। और e मतलब इलेक्ट्रॉनिक या डिजिटल। इस प्रकार छात्रो की पढाई का सामान डिजिटल रूप में उपलब्ध कराना को ही ईबस्ता कहते हैं। ईबस्ता एक पोर्टल है जिसमें छात्र, शिक्षक और पब्लिशर्स द्वारा चलायो जाता है E Basta पोर्टल पब्लिशर्स के लिए भी लाभकारी हैं।

क्यूंकि ये एक केंद्र बिंदु की तरह काम करेगा। इसके माध्यम से शिक्षक, स्कूल अथॉरिटी एवम छात्र तीनो का गाइडेंस लेकर पब्लिशर्स आसानी से डाटा उपलब्ध करा पायेंगे। आसनी से पुरे देश में E Book के रूप में बुक्स छात्रों तक पहुँचेगी। पहले ही स्पष्ट कर दिया हैं कि पब्लिशर्स जरूरत के मुताबिक कोई भी डाटा पोर्टल में डाल सकते हैं इन पर कॉपीराइट का नियम लागु नहीं किया जायेगा।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है उत्तर प्रदेश सरकार की 'विकलांग पेंशन योजना, इस फार्म को भरने के बाद मिलेंगे पैसे

ईबस्ता पोर्टल का उद्देश्य

ईबस्ता पोर्टल का उद्देश्य ईबुक के रुप में छात्रो को सलेब्स उपलब्ध कराना है। इस पोर्टल में छात्र अपनी सहुलियत के हिसाब से डाटा ले सकते हैं। ट्रास्फर भी कर सकतें हैं ईबस्ता पोर्टल से छात्रो को पढाई में बहुत लाभ मिलेगी।

ईबस्ता पोर्टल की किस तरह काम करेगा

ईबस्ता (ईबस्ता) एक पोर्टल हैं जिसके मुख्य कलाकार छात्र, शिक्षक एवम पब्लिशर्स होंगे। अब इन तीनो की इसमें क्या भूमिका होगी

1-ईबस्ता पोर्टल का लाभ उठाने के लिए छात्र को ebasta एप्लीकेशन ebastaapp डाउनलोड करनी होगी।


2-इस एप्लीकेशन या पोर्टल के लिए छात्रो के सिलेबस के मुताबिक इनफार्मेशन एवम सिलेबस का पूरा ब्यौरा स्कूल एवम शिक्षको के द्वारा दिया जायेगा।

3-पूरा ब्यौरा मिलने के बाद पब्लिशर्स उसके मुताबिक डाटा (ebasta) एप्लीकेशन अथवा पोर्टल में पब्लिश करेंगे।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है उड़ीसा सरकार की बीजू शिशु सुरक्षा योजना, मिलेगा ये लाभ

·         इसके बाद छात्र अपनी जरुरत के हिसाब से डाटा (ebasta) एप्लीकेशन अथवा पोर्टल से डाउनलोड कर उसे पढ़ सकेंगे।

·         डिजिटल रूप में उपलब्ध यह सामग्री को छात्र अपने लैपटॉप अथवा टेबलेट से एक्सेस करके उपयोग कर सकता हैं।

·         जरुरत का यह डाटा छात्रो के लिए टेक्स्ट, सिमुलेशन, एनीमेशन,ऑडियो एवम विडियो के रूप में उपलब्ध कराया जायेगा।

·         इसके लिए एक वेब बेस्ड एप्लीकेशन बनाया गया हैं जिसे आप ebasta के फ्रेम अथवा रूप में उपयोग कर सकते हैं।

·         ebasta को व्यवस्थित करने अर्थात सिलेबस को छात्रो के मुताबिक सही तरह से ज़माने एवम और कमी को बताने के लिए ebasta में स्कूल अथॉरिटी और शिक्षक लॉग इन कर सकते हैं और अपने निर्देश दे सकते हैं।

·         ebasta में किसी भी शहर अथवा गाँव के स्कूलों के छात्र एक्सेस कर सकते हैं। वे इस ebasta में उपलब्ध सामग्री को पोर्टल अथवा एंड्राइड स्मार्ट फोन के जरिये एप्लीकेशन से डाउनलोड कर सकते हैं।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है भारत सरकार की ग्राम उदय से भारत उदय अभियान

·         छात्र इस नोट्स अथवा डाटा को इलेक्ट्रॉनिक रूप में मतलब डिजिटल रूप में लैपटॉप मोबाइल एवम टेबलेट से जब मन करे तब पढ़ सकते हैं। ये एक eBook Reader एप्लीकेशन की तरह काम करेगा।

·         ये डाटा आसानी से डाउनलोड किया जा सकता हैं साथ ही इसे आसानी से एक लैपटॉप से दुसरे में भी ट्रान्सफर किया जा सकता हैं।

ईबस्ता पोर्टल लाभ

1-ebasta के रूप में देश के कौने- कौने में छात्र आसानी से पढ़ाई का मटेरियल एक्सेस कर सकते हैं।


2- ebasta से छात्रों, शिक्षकों,स्कूल अथॉरिटी एवम पब्लिशर्स के बीच पारदर्शिता आएगी। इससे जानकारी का लेनदेन आसान होगा।

3-ebasta से कागज की भी बचत होगी।

4 -ebasta के कारण छात्र सिलेबस के बाहर की भी जरुरी इनफार्मेशन पढ़ सकेंगे।

5-कॉपीराइट इश्यूज़ ना होने के कारण पब्लिशर्स को आसानी होगी |वे आसानी से डाटा मुहिया करा पायेंगे।

Click to comment

Most Popular

To Top