जानिए क्या है टीबी-मिशन 2020, देश में जड़ से खत्म होगी टीबी

प्रधानमंत्री योजना

जानिए क्या है टीबी-मिशन 2020, देश में जड़ से खत्म होगी टीबी

जानिए क्या है टीबी-मिशन 2020, देश में जड़ से खत्म होगी टीबी

भारत एक ऐसा देश है जहां हर साल टीबी के मरीज़ों की लाखों शिकायतें अस्पताल में दर्ज की जाती है वहीं रिपोर्ट दांवा करती है कि दुनियाभर में टीबी की हर चौथी शिकायत भारत से जुड़ी होती है।

2013 की रिपोर्ट के मुताबिक टीबी के सबसे ज्यादा मामले दक्षिण पूर्वी एशिया और पश्चिमी प्रशांत देशों में दर्ज किए गए जिनमें से भारत के कुल 24 फीसदी मामले टीबी के थे वहीं यह आकंड़ा अगले साल यानि की 2014 में बढ़कर करीब 4 लाख 80 हजार हो गया।

मामले की गंभीरता को देखते हुए भारतीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ.हर्षवर्धन द्वारा एक ठोस कदम उठाया गया और इस ख़ास कदम को नाम दिया गया ‘टीबी-मिशन 2020’।

जिसके जरिए गरीब से गरीब भी समय रहते टीबी जैसी घातक बीमारी का इलाज़ कराने में सक्षम होगा। यह एक तरह का अभियान है जो पूर्णता रुप से मुफ्त है तो आइए इस मिशन से जुड़ी पूरी जानकारी लें..

टीबी के प्रकार

वैसे तो आमतौर पर देखा गया है कि टीबी की बीमारी शरीर के किसी भी अंग पर हो सकती है लेकिन यह अधिकत्तर फेफड़ो में पाई जाती है। हम टीबी के विभिन्न प्रकार से आपको अवगत करा रहें है

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है सीएम खट्टर की पेंशन योजना, विधवा सहित इन लोगों को मिलेंगे 1600 रु मासिक

1)    सरवाइकल टीबी- यह गर्दन के हिस्से में होती है।

2)    हड्डियों की टीबी- यह रीढ़ की हड्डी में होती है।

3)    मेनिजाइटिस टीबी- यह दिमाग में होती है।

4)    इंटेस्टाइन टीबी- यह आंतो में पाई जाती है।

5)    जेनेटिक टीबी- यह एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी के व्यक्ति को होती है।

6)    फेफड़ो की बलगम धनात्मक टीबी समाज और आसपास रह रहें लोगों के लिए जानलेवा साबित होती है इससे ग्रसित मरीज़ के छींकने, खांसने और बोलने से कीटाणु वातावरण में मिल सकते है साथ ही पास खड़ युवक या युवती में भी प्रवेश कर सकते है।

7)    बलगम धनात्मक रोगी एक साल में 10 से 15 अन्य लोगों को टीबी की बीमारी दे सकता है।

क्या है ‘टीबी-मिशन 2020’

भारत द्वारा टीबी जैसी जानलेवा बीमारी को खत्म करने के लिए ‘टीबी-मिशन 2020’ चलाया गया है जिसकी घोषणा स्वंय प्रख्यात स्वास्थ्य मंत्री डॉ.हर्षवर्धन ने की थी। यह घोषणा हर्षवर्धन ने स्पेन के बार्सिलोना में विश्व स्वास्थ्य संगठन के ग्लोबल टीबी कॉन्फ्रेंस के दौरान की थी।

इस अभियान के तहत भारत 2020 तक टीबी की बीमारी के खात्मे के लिए वचनबद्द रहेगा। अभियान के जरिए टीबी निरोधक अधिकारियों को ‘टीबी मिशन 2020’ के तहत अगले पांच साल में अहम कामियाबी हासिल करने का निर्देश दिया गया था जिसमें मरीजों को मुफ्त में दवाएं उपलब्ध की जाएंगी।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है योगी सरकार की महिला सशक्तिकरण मिशन

‘टीबी-मिशन 2020’ का उद्देश्य

बतातें चलें कि भारत में एचआईवी के साथ टीबी होने की संभावना 60 प्रतिशत से अधिक है। दरअसल एड्स-एचआईवी संक्रमण के साथ टीबी संक्रमण का खतरा लगातार बढ़ रहा है। इसका कारण एड्स मरीजों में प्रतिरोधक क्षमता का कम होना है जिस कारण उनमें टीबी संक्रमण होने की संभावना बहुत अधिक हो जाती है।

एड्स के साथ यदि टीबी की बीमारी हो जाए तो मरीज का इलाज मुश्किल हो सकता है। एक साथ दो जानलेवा बीमारियां न हो इसके लिए ही नेशनल हेल्थ मिशन द्वारा यह योजना तैयार की गई है। जो आने वाले समय में कारगार सिद्द हो सकती है।

टीबी-मिशन 2020 के प्रमुख विशेषताएं

1)    योजना के तहत भारत सरकार रोगियों को नि:शुल्क जांच और उपचार के साथ उन्हें सरकारी और निजी अस्पतालों से पोषाहार तथा संबंधित वित्तीय सहायता दिलाने का प्रयास करती है।

2)    मिशन के तहत एड्स मरीजों और एचआईवी संक्रमितों को टीबी से बचाव के लिए दवाएं दी जाती है।

3)    योजना के तहत मरीजों या संक्रमित को आइसो नियेजिड प्रोफिलेक्सिस थेरेपी दी जाती है जो एक तरह की प्रतिरोधक दवा है।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है हिमाचल सरकार की बेरोजगारी भत्ता योजना, ऐसे पाएं योजना का लाभ

4)    योजना के तहत प्रत्येक मरीज़ को मुफ्त इलाज़ दिया जाता है।

5)    प्रदेश के सभी 32 एऐरटी सेंटरों पर दवाएं मुफ्त में उपलब्ध कराई जाती है।

6)    मरीज देश के किसी भी अस्पताल में भर्ती क्यों न हो उसका इलाज़ मुफ्त कराया जाएगा वह अस्पताल चाहें सरकारी हो या फिर निजी।

7)    मरीजों को सिर्फ एक दवा दी जाएगी जिससे एचआईवी की दवाओं पर कोई असर नहीं होगा।

अब तक के कार्यक्रम

1)    इस जानलेवा बीमारी से बचाव के लिए बीसीजी का टीका लगाया जाता है।

2)    बीमारी पर रोकथाम के लिए देशभर में डॉट्स नामक कार्यक्रम पहले से ही चलाया जा रहा है।

3)    निजी मेडिकल स्टोरों पर टीबी की दवाएं मुफ्त उपलब्ध कराई जा रही है।

टीबी-मिशन 2020 के लिए आवेदन

टीबी मिशन 2020 के लिए प्रत्येक भारतीय आवेदन कर सकता है।

कैसे करें आवेदन

प्रत्येक मरीज़ को सबसे पहले अपने नज़दिकी सरकारी अस्पताल में जो उसके क्षेत्र या इलाके में आता हो उससे संपर्क करना होगा। इसके अलावा मरीज़ प्राइवेट अस्पताल में भी इस मिशन का लाभ उठा सकता है। अपनी पूरी जानकारी जरुर दे..

जानिए क्या है टीबी-मिशन 2020, देश में जड़ से खत्म होगी टीबी
Click to comment
To Top