छत्तीसगढ़

जानिए क्या है सरकार की हमर छत्तीसगढ़ योजना- राज्य की संस्कृति को कैसे मिलेगा बढ़ावा

जानिए क्या है सरकार की हमर छत्तीसगढ़ योजना- राज्य की संस्कृति को कैसे मिलेगा बढ़ावा

छत्तीसगढ़ राज्य का निर्माण 1 नवंबर 2000 को हुआ था। इस राज्य के साथ अन्य दो राज्यों का भी निर्माण हुआ। लेकिन आज छत्तीसगढ़ अपने साथ गठित दूसरे राज्यों की अपेक्षा विकास के मामलें में आगे चल रहा है।

राज्य सरकार की मंशा रही है कि सारे जिलों की पंचायत प्रतिनिधिकरण अपने राज्य के विकास को करीब से देख सके और इस पर गर्वान्वित हो सके। इसी उद्देश्य से राज्य में ‘हमर छत्तीसगढ़ योजना’ की शुरुआत की गई है। जिससे राज्य में विकास की गति को और तेज़ किया जा सके।

क्या है हमर छत्तीसगढ़ योजना

हमर छत्तीसगढ़ योजना के मुख्य नोडल अधिकारी अपर विकास आयुक्त श्री सुभाष मिश्रा हैं। आवासीय परिसर में एक कंट्रोल रुम की भी स्थापना की गई है। जिसके माध्यम से सारे भ्रमण दलों की अद्यतन जानकारी रखी जाएगी। जनसंपर्क विभाग द्वारा राज्य संचालित योजनाओं की पुस्तिकाएं प्रतिनिधियों को उपलब्ध कराई जा रही है।

हमर छत्तीसगढ़ में शामिल पद

हमर छत्तीसगढ़ योजना में राज्य के सरपंच, पंच, जनपद सदस्य, जिला पंचायत सदस्य एवं नगर पंचायत के अध्यक्ष और पार्षदों के अलावा 2 अक्टूबर 2016 से सहकारिता क्षेत्र से जुड़े जनप्रतिनिधियों को भी शामिल किया गया है।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है हरियाणा सरकार की बिजली बिल जुर्माना माफी योजना, इन्हें मिलेगा लाभ

हमर छत्तीसगढ़ योजना की प्रमुख विशेषताएं

  • योजना के अंतर्गत जिले के राज्य स्तर की प्रतिनिधियों की संख्या एवं भ्रमण हेतु रोस्टर का निर्धारण किया गया है।
  • पंचायत प्रतिनिधियों, सहकारिता प्रतिनिधियों एवं पार्षदों के रायपुर एवं नया रायपुर आने जाने के लिए बसों की व्यवस्था संबंधित जिला कलेक्टरों द्वारा की गई है।
  • प्रतिनिधियों के रहने, ठहरने एवं भोजन की व्यवस्था नया रायपुर स्थित होटल प्रबंधन संस्थान उपरवारा में निशुल्क रुप से की जाएगी।
  • प्रतिभागियों के आने जाने के लिए निर्धारित बस से ही निर्धारित स्थानों का भ्रमण कराया जा रहा है।
  • इस योजना के क्रियान्वय के लिए प्रशासकीय विभाग पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग है। इस योजना के लिए राज्य शासन द्वारा शत प्रतिशत राशि उपलब्ध कराई जा रही है।
  • पर्यटन विभाग के माध्यम से 20 टूरिस्ट गाइड उपलब्ध कराए जा रहे हैं। इन्हें छत्तीसगढ़ी, हल्बी और गोंडी भाषा का ज्ञान होना अनिवार्य होगा। वे भ्रमण दल को सारी स्थलों की अच्छी तरह से जानकारी दे पाएंगे।
  • संस्कृति विभाग द्वारा उपरवारा स्थित संस्थान में प्रतिदिन शाम को एक घंटे की सांस्कृति संध्या आयोजित की जाएगी।
  • हमर छत्तीसगढ़ महत्वपूर्ण तत्व
  • राज्य मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह के नेतृत्व में इस योजना का आगाज़ किया गया है, जो अगले दो वर्षों तक अस्तित्व में बनी रहेगी।
  • योजना के सफल क्रियान्वयन और समय समय पर आने वाली दिक्कतों को दूर करने के लिए राज्य स्तरीय निर्णय लेने हेतु मुख्य सचिव, छत्तीसगढ़ शासन की अध्यक्षता में राज्य स्तरीय सशक्त समिति का गठन किया गया है।
  • पंचायत प्रतिनिधियों को जंगल सफारी, पुरखौती मुक्तांगन, नया रायपुर, क्रिकेट स्टेडियम, ऊर्जा पार्क, मंत्रालय, साईंस सेंटर, विधानसभा, मंहत घासीदास संग्राहलय और इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय जैसी विकसित जगहों का भम्रण कराकर विस्तार से जानकारी दी जा रही है।
  • पंचायत प्रतिनिधियों तथा नगर पंचायत के प्रतिनिधियों, पूर्व पदाधिकारियों तथा पंचायत राज से जुड़े हुए लोगों में से अधिकतम एक पंचायत में से 20 व्यक्तियों में से चयन किया जाएगा। जिनमें महिलाओं को भी शामिल किया जाएगा।
इसे भी पढ़े   जानिए क्या है राजस्थान सरकार की सहयोग उपहार योजना, बेटी की शादी में सरकार देगी पैसा

योजना प्रमुख लक्ष्य

1 जुलाई 2016 से 30 जून 2018 तक संचालित होने वाली ‘हमर छत्तीसगढ़ योजना’ के अंतर्गत राज्य के सभी 27 जिलों की 10,971 ग्राम पंचायतों के 1,70,285 निर्वाचित प्रतिनिधि, 111 नगर पंचायतों के 1,768 जन प्रतिनिधि तथा करीब 4 हजार सेवा सहकारी समितियों के लगभग 32,000 प्रतिनिधियों को बारी बारी से दो दिवसीय अध्ययन भ्रमण कराने का लक्ष्य रखा गया है।

योजना निष्कर्ष जो अभी तक सफल रही

हमर छत्तीसगढ़ योजना में हर उम्र वर्ग के प्रतिनिधि शामिल हो रहे है। पंचायतीराज में महिलाओं की स्थिति काफी सशक्त हुई है। घर में चूल्हा चौका करने वाली महिला प्रतिनिधि अब बराबरी से उत्साह से जिज्ञासा से परिपूर्ण राज्य शासन के विकास और योजनाओं को परख रही हैं और अपने गांव क्षेत्र में बेहतर विकास कार्य करने के लिए प्रोत्साहित हो रही है। अपनी सहभागिता निभाकर अनुभवी बुजुर्ग प्रतिनिधियों के निर्देशन में युवा प्रतिनिधि तरक्की की डगर पर चल पड़े हैं।

Click to comment

Most Popular

To Top