छत्तीसगढ़

छत्तीसगढ़ में सरकार ने शुरू की उज्जवला योजना, मुफ्त मिलेगा गैस सिलेंडर

छत्तीसगढ़ में सरकार ने शुरू की उज्जवला योजना, मुफ्त मिलेगा गैस सिलेंडर

गरीब परिवार की महिला सदस्यों को निशुल्क एलपीजी गैस कनेक्शन उपलब्ध कराने के लिए केंद्र सरकार द्वारा प्रधानमंत्री उज्जवला योजना को छत्तीसगढ़ में 13 अगस्त 2016 को शुरु किया गया। केंद्रीय पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस राज्य मंत्री की अध्यक्षता में ‘प्रधानमंत्री उज्जवला  योजना‘ की शुरुआत छत्तीसगढ़ राजधानी रायपुर के साईंस कॉलेज मैदान में आयोजित एक कार्यक्रम के दौरान की गई थी।

योजना लागू करने का प्रमुख उद्देश्य

ग्रामीण महिलाएं हर रोज़ धुएं और जीवाश्व ईंधन से जद्दोज़ेहद करती है। इस जद्दोज़ेहद में जहां उन्हें कभी-कभी गंभीर बीमारी से भी जुझना पड़ जाता है। ऐसे में केंद्र सरकार द्वारा एक ऐसी योजना का आगाज़ किया गया, जिसने इन महिलाओं की जिंदगी बदल दी। जी हां, हम बात कर रहें ‘प्रधानमंत्री उज्जवला योजना’ की जिसके जरिए अब हर घर धुआं मुक्त हो चला है।

ये योजनाएं राज्य दर राज्य फैल रही है और हाल ही में छत्तीसगढ़ राज्य में भी ‘प्रधानमंत्री उज्जवला योजना’ को शुरु किया गया है। जहां महिलाओं के बीच मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने कई एलपीजी कनेक्शन वितरित किए है।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है भारत सराकर की महात्मा ज्योतिबा फुले जन स्वास्थ्य योजना, लाखों का इलाज होगा मुफ्त

योजना महत्वपूर्ण बातें

  • भारत सरकार की पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय तथा छत्तीसगढ़ शासन द्वारा आयोजित कार्यक्रम में दुर्ग संभाग की 5 हजार महिला को गैस कनेक्शन के प्रमाण पत्र प्रदान किए गए थे।
  • छत्तीसगढ़ पहला राज्य है जो इस योजना में 50 फीसदी की भागीदारी दे रहा है।
  • छत्तीसगढ़ पहला ऐसा राज्य है जो इस योजना के तहत लाभार्थियों को मुफ्त गैस चूल्हा और सिलेंडर के प्रथम रिफिल के लिए सब्सिडी दे रहा है।

योजना प्रमुख लाभ

  • योजना के तहत गरीब परिवार की महिला सदस्य जिनके यहां पहले से एलपीजी गैस कनेक्शन नहीं है उन्हें 200 रुपए में एलपीजी गैस कनेक्शन, गैस चुल्हा, रेगुलेटर, पाईप और एक विशेष सिलेंडर मुफ्त में उपलब्ध किया जाएगा।
  • योजना के अधीन जो 200 रुपए लिए जाएंगे उसमें से करीब 150 रुपए की सब्सिडी हितग्राहियों के बैंक खाते में वापस जमा कर दी जाएगी।
  • एक गैस कनेक्शन लेने में करीब 3200 रुपए का खर्च आता है। जिसमें से छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा हितग्राहियों को 1600 रुपए की सब्सिडी दी जाएगी।
  • ये एक ऐसी योजना है जिसमें 990 रुपए कीमत का दो बर्नर वाला गैस चूल्हा तथा सिलेंडर के प्रथम रीफिल के लिए 558 रुपए की सब्सिडी दी जा रही है।
  • इस तरह केंद्र सरकार द्वारा 1250 रुपए का सिलेंडर, 150 रुपए का रेग्यूलेटर, 100 रुपए का रबर ट्यूब, 75 रुपए इन्स्टालेशन शुल्क तथा 25 रुपए बुक के लिए इस तरह कुल 1600 रुपए की सब्सिडी इस योजना के तहत लाभार्थियों को प्रदान की जा रही है।
  • योजना के तहत डबल बर्नर चूल्हा और पहला सिलेंडर फ्री दिया जाएगा।
  • योजना प्रमुख लक्ष्य जो शासन द्वारा तय किए गए
  • छत्तीसगढ़ सरकार द्वारा आने वाले दो वर्ष में इस योजना के तहत 25 लाख महिलाओं को निशुल्क गैस कनेक्शन प्रदान करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।
  • योजना के तहत 2019 तक प्रदेश में 35 लाख कनेक्शन देने का लक्ष्य रखा गया है।
  • छत्तीसगढ़ में उज्जवला योजना के तहत अब तक 6.40 लाख गरीब परिवारों की महिलाओं को मुफ्त रसोई कनेक्शन दिया जाएगा।
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सर्वोच्च प्राथमिकता वाली इस योजना के तहत दो साल में 25 लाख गरीब परिवारों को सिर्फ दो सौ रुपए के पंजीयन शुल्क पर मुफ्त रसोई गैस कनेक्शन देने का लक्ष्य है।
  • चालू वित्तीय वर्ष में दस लाख कनेक्शनों के वितरण का लक्ष्य तय किया गया है।
  • रसोई गैस सिलेंडरों की बॉटलिंग क्षमता बढ़ाने और राज्य के दुर्गम क्षेत्रों में रसोई गैस वितरकों की नियुक्ति की प्रक्रिया में भी तेजी लाने की जरुरत है।
इसे भी पढ़े   जानिए क्या है मध्य प्रदेश सरकार की समर्थ संगनी योजना, रुकेगा महिलाओं पर अत्याचार

योजना प्रमुख विशेषताएं

  • उज्जवला योजना में अब तक 13 लाख गैस कनेक्शन बांटे गए है।
  • देश में छत्तीसगढ़ सातवें नंबर पर है। जहां उज्जवला योजना की स्थिति से अधिकतर गरीब के घर में गैस चूल्हा पहुंचा है।
  • केंद्र की योजनाओं को लेकर छत्तीसगढ़ में खासा जोर दिया जा रहा है।
  • योजना के शुरु होने के करीब साढ़े चार माह के भीतर राज्य में लगभग छह लाख 40 हजार गरीब परिवारों की महिलाओं के नाम नि:शुल्क रसोई गैस कनेक्शन दिए जा चुके है।
Click to comment

Most Popular

To Top