मध्य प्रदेश

जानिए क्या है मध्य प्रदेश सरकार की लाड़ली लक्ष्मी योजना, ऑनलाइन करें अप्लाई

जानिए क्या है मध्य प्रदेश सरकार की लाड़ली लक्ष्मी योजना, ऑनलाइन करें अप्लाई
जानिए क्या है मध्य प्रदेश सरकार की लाड़ली लक्ष्मी योजना, ऑनलाइन करें अप्लाई

आज देशभर में लड़कियों का घटता लिंगानुपात सरकार और समाज के लिए चिंता का विषय है इसी समस्या को देखते हुए सरकार ने लाड़ली लक्ष्मी योजन  की शुरुआत की गई। इस समस्या का सबसे बड़ा कारण है बालिका जन्म के प्रति देशभर में नकारत्मक सोच को बढ़ता हुआ देख कर। जरूरत थी ऐसी योजना कि जो इस घटते लिंगानुपात को समाज में एक सकारत्मक सोच में बदल दे।

इसीलिए मध्यप्रदेश सरकार ने बालिका जन्म के प्रति जनता में सकारात्मक सोच, लिंगानुपात में सुधार,लाने के लिए बालिकाओं के शैक्षणिक स्तर तथा स्वास्थ्य स्थिति में सुधार और उनके उज्जवल भविष्य की आधारशिला को ध्यान में रखते हुए और उनके सफल जीवन को बेहतर बनाने के उद्देश्य से लाड़ली लक्ष्मी योजना  लागू की।

लाड़ली लक्ष्मी योजना क्या है

लाड़ली लक्ष्मी योजना मध्य प्रदेश सरकार द्वारा प्रदेश में बालिकाओं की स्थिति सुधारने के लिए शुरू की गयी एक योजना है। जिसका उद्देश्य प्रदेश में बालिकाओं के शैक्षिणिक तथा स्वास्थ्य की स्थिति में सुधार लाने, अच्छे भविष्य की आधारशिला रखने, बालिका भ्रूण हत्या रोकने और बालिकाओं के जन्म के प्रति जनता में सकारात्मक सोच लाना है। इस योजना का उद्घाटन 2006 में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा किया गया। इस योजना का लाभ 1 जनवरी 2006 के उपरान्त जन्मी बालिकाओं को मिलेगा।

लाड़ली लक्ष्मी योजना का उद्देश्य

लाड़ली लक्ष्मी योजना का मुख्य उद्देश्य देश मे लड़कियो की स्थिति मे परिवर्तन करना तथा उन्हे एक बेहतर भविष्य देना है। इस योजना के पीछे एक सोच बालिका भ्रूण हत्या को रोकना तथा बालिका बाल विवाह को रोकना भी है। इस योजना का लाभ 1 जनवरी 2006 के बाद जन्मी बलिकए ले सकती है।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है दिल्ली सरकार की मेट्रो आवास योजना, मिलेंगे 2 बीएचके फलैट्स

लाड़ली लक्ष्मी योजना के लिए योग्यता

वही बालिका इस लाड़ली लक्ष्मी योजना  का लाभ ले सकती है जिसका परिवार (माता पिता) मध्य प्रदेश के रहने वाले हो तथा वे लोग आयकर नहीं भरते हो अर्थात उनकी वार्षिक आय कम हो।

दूसरी बालिका के लिए वही माता पिता इस लाड़ली लक्ष्मी योजना का लाभ ले सकते है जिन्होंने परिवार नियोजन करवा लिया हो।

अगर कोई माता पिता अपनी पहली बालिका के लिए लाड़ली लक्ष्मी योजना  का लाभ लेते है तो उन्हे अपनी दूसरी संतान के बाद परिवार नियोजन करवाना आवश्यक हो जाता है तथा यह भी आवश्यक है की पहली बालिका का जन्म 1 अप्रैल 2008 के बाद हुआ हो।

अगर परिवार मे माता पिता की मृत्यु हो गयी हो तो इस स्थिति मे माता पिता का मृत्यु का प्रमाण पत्र लगाना होता है।

अगर परिवार मे दूसरी संतान के रूप मे 2 लड़कियो का जन्म होता है तो दोनों बालिकए लाड़ली लक्ष्मी योजना का लाभ ले सकती है।
अगर किसी दंपत्ति की पहली संतान गोद ली हुई हो तो वह उसके लिए भी लाड़ली लक्ष्मी योजना का लाभ ले सकता है।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है समाजवादी स्वास्थ्य बीमा योजना, कैंसर का होगा मुफ्त इलाज

अगर किसी बच्ची के माता पिता की मृत्यु हो जाती है तो इस स्थिति मे आवेदन करने की अवधि बढकर 5 साल हो जाती है अर्थात बच्ची के 5 वर्ष के होने तक आवेदन किया जा सकता है।

अगर किसी दंपत्ति को पहली बार मे ही 3 लड़कियो का जन्म होता है तो एसी स्थिति मे भी तीनों बालिकाओ को लाड़ली लक्ष्मी योजना  का लाभ मिलता है।

अगर कोई माता पिता बालिका के जन्म के पहले वर्ष मे लाड़ली लक्ष्मी योजना  के लिए आवेदन नही कर पाये है तो वह दूसरे वर्ष मे शहर के कलेक्टर को आवेदन कर सकते है परंतु इस आवेदन को स्वीकार करना या ना करना पूरी तरह से कलेक्टर के हाथ मे होता है।

आवेदन कैसे और कहॉ करना होगा

कोई भी व्यक्ति जो लाड़ली लक्ष्मी योजना का लाभ लेना चाहता है अपने आस पास के आगनवाड़ी मे संपर्क कर सकता है।

जब आवेदन कर रहे हो तो यह ध्यान रहे की आवेदन के लिए आवश्यक सभी जरूरी कागज साथ हो।

अगर कोई बालिका अनाथालय मे रहती है तो यह आवश्यक है की उसका आवेदन उसके 6 वर्ष के होने के पूर्व ही संबन्धित अधिकारी को किया

जाए। यह प्रक्रिया उसके अनाथालय मे आने के एक वर्ष के अंदर ही पूरी कर लेनी चाहिए।

पंजीकरण कब तक

(i) प्रदेश की किसी भी आंगनवाडी केन्द्र में जन्म के 1 वर्ष के अन्दर अनिवार्यतरू पंजीकरण करा लिया गया हो।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है प्रधानमंत्री रोजगार योजना, पीएम मोदी ने युवाओं को दिया नौकरी का तोहफा

(ii) योजना में पंजीकरण के लिये माता.पिता, अभिभावक द्वारा बालिका के जन्म 1 वर्ष के अंदर संबंधित आंगनवाडी कार्यकर्ता को आवेदन प्रस्तुत करना होगा।


(iii) ऐसी बालिकाएं जो अपने माता पिता की पहली संतान हैं एवं जिनका जन्म 31 मार्च 2008 के पूर्व हुआ है। तो द्वितीय संतान के जन्म 1 वर्ष के अंदर पंजीयन एवं आवेदन कराना आवश्यक होगा।

लाड़ली लक्ष्मी योजना के लाभ

अगर कोई बालिका इस योजना के आनुसार रजिसटर्ड है तो उसे कक्षा 6 मे 2000 रूपय कक्षा 9 मे 4000 रूपय तथा कक्षा 11 मे 7500 रूपय दिये जाते है ताकि बालिका की पढ़ाई मे कोई रुकावट ना आए।

कक्षा 11 के बाद बालिका को 7500 रूपय के अतिरिक्त 200 रूपय प्रतिमाह दिये जाते है।

कक्षा 12 के पूर्ण करने के बाद तथा 21 वर्ष की उम्र पूरी करने के बाद भी तय की गयी राशि बालिका को मिलती है ।

इसके आगे की सभी राशि इसी शर्त पर मिलती है की बालिका ने कक्षा 12 की परीक्षा दी हो तथा बालिका की शादी 18 वर्ष पूरा करने के बाद हुई हो।

लाड़ली लक्ष्मी योजना का लाभ लेने के लिए किसी भी आंगनवाड़ी मे या महिला बाल विकास अधिकारी या बाल विकास परियोजना अधिकारी से संपर्क किया जा सकता है।

ऑनलाइन अप्लाई करने के लिए यहां क्लिक करें

Click to comment
To Top