जानिए क्या है सोलर पंप योजना, अब योगी सरकार आपके खेत में लगाएगी पंप
उत्तर प्रदेश

जानिए क्या है सोलर पंप योजना, अब योगी सरकार आपके खेत में लगाएगी पंप

जानिए क्या है सोलर पंप योजना, अब योगी सरकार आपके खेत में लगाएगी पंप

जब से उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री का पद योगी आदित्यनाथ ने संभाला है तभी से यूपी अपने नए बदलाव के साथ चर्चा में है। पहले योगीराज में किसानों के कर्ज माफ़ किए गए और फिर राज्य की सबसे बड़ी समस्या का समाधान सोलर पंप किसानों को एक भेंट के रुप में दिया गए।

जिससे किसान न केवल सिंचाई व्यवस्था में बदलाव ला पाएंगे बल्कि सोलर पंप पर किसानों को खर्च करने की भी जरुरत नहीं पड़ेगी। जी हां, योजना के तहत 10 हजार गांवों में सोलर पंप लगाने की योजना बनाई गई है। जिससे एक सोलर पंप के जरिए कई किसानों की परेशानियां खत्म हो सकेगी।

उत्तर प्रदेश द्वारा चलाई गई ‘सोलर पंप योजना’

Solar pump scheme run by Uttar Pradesh

14 मार्च 2016 को उत्तर प्रदेश में आयोजित मंत्रिपरिषद की बैठक में मोबाइल सोलर संयंत्र एंव पंप योजना को मंजूरी दी गई थी। योजना के तहत ट्राली, 3000 वाट सोलर पैनल, फिक्सर, 3 एचपी सरफेस मोनो ब्लॉक पंप, वीएफडी, कंट्रोल बॉक्स, फ्लैक्सी डिलीवरी पाइप , फ्लैक्सी वायर, सक्शन पाइप इत्यादि किसानों को उपलब्ध कराए जाएंगे।

इसे भी पढ़े   आपके स्वास्थ्य और सेहत की देखभाल राजस्थान सरकार की जिम्मेदारी, जानिये क्या है योजना

योजना लागू का उद्देश्य

Purpose of Yojana

किसान खेतीबाड़ी के लिए पहले से ही सिंचाई व्यवस्था एकत्रित कर सकते है इसके लिए सबसे अच्छा विकल्प सोलर वॉटर पंप साबित हो सकता है। वहीं योजना लागू करने का प्रमुख उद्देश्य कृषि क्षेत्र में विकास करना है।

योजना के तहत वॉटर पंप प्रदेश के 10 हजार किसानों में पैनल मॉडल सिस्टम के तहत बांटे जाएंगे। यह योजना केवल किसानों के लिए लागू की गई है

योजना संबंधी महत्वपूर्ण बिंदु

Important point of plan

1)    योजना के तहत लघु एवं सीमान्त कृषकों को 60 प्रतिशत, लघु सीमान्त कृषकों के समूह एवं स्वंय सहायता सहायता समूह को 50 प्रतिशत तथा अन्य कृषकों को 35 प्रतिशत अनुदान राज्य सरकार द्वारा दिया जाएगा।

2)    पाइलट आधार पर योजना को प्रदेश के जनपदों में सीमित मात्रा में संचालित किया जाएगा।

3)    यूपी सरकार किसानों को दो हॉर्सपावर, तीन हॉर्सपावर और पांच हॉर्सपावर वाले सोलर पंप अनुदान दे रही है। इसमें दो और तीन हॉर्सपावर वाले पंपों पर 75 फीसदी और पांच हॉर्सपावर वाले सोलर पंप पर 50 प्रतिशत अनुदान पर लाभार्थी को दिया जाएगा।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना, कैसे बेटियों को मिलेंगे 6 लाख रुपये

पंजीकरण प्रक्रिया

Registration Process

लाभार्थी को योजना का लाभ उठाने के लिए सबसे पहले एक आवेदन पत्र भरना होता है। इसके अलावा यदि किसान पारदर्शी योजना में अपना पंजीकरण नहीं कराता है। आवेदन पत्र भरने से पहले पंजीकरण करना जरूरी है। एक बार पंजीकरण हो जाने पर पंजीकरण संख्या मिलती है। जिसे किसान को अपने पास सुरक्षित रखना पड़ता है।

संख्या के जरिए ही किसान सोलर वाटर पंप के लिए आवेदन कर सकता है। बड़ी बात ये है कि ये आवेदन किसान या आवेदनकर्ता कभी भी कर सकता है। सरकार द्वारा ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया शुरु करने के बाद अब किसान सोलर वाटर पंप के अलावा बीज और खाद की भी ऑनलाइन बुकिंग करा सकता है।

आवेदन हेतु जरूरी दस्तावेज़

Documents required for application

1)    बैंक पासबुक

2)    पहचान पत्र की फोटोकॉपी

3)    किसानों को पंजीकरण कराने के लिए अपने साथ खतौनी यानि की भुमि अभिलेख की कॉपी या असली दस्तावेज़।

आदि दस्तावेज़ो को ले जाकर ब्लॉक ऑफिस से पंजीकरण कराया जा सकता है जिसके बाद लाभार्थी या आवेदनकर्ता का चयन हो जाने पर उसके द्वारा चुने गए सोलर वॉटर पंप को लगवाने के लिए उसे एक डिमांड ड्रॉफ्ट बनवा कर जमा करना होगा। जिसके उपरांत सोलर वॉटर पंप खेत पर कंपनी द्वारा लगा दिया जाएगा।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है मध्य प्रदेश में मुख्यमंत्री युवा पेशेवर विकास कार्यक्रम, इन युवाओं को मिलेगी नौकरी

सरकार का लक्ष्य

Goal of government

1)    सोलर पंप योजना का प्रमुख लक्ष्य साल 2018 के अंत तक सभी क्षेत्रों में 24 घंटे तक बिजली पहुंचाना है।

2)    सरकार बिजली की किल्लत वाले इलाकों में सोलर पंप लगाकर किसी सरकारी एजेंसी से बोरिंग कराए ताकि एक गांव मजरे में सोलर पंप लगाने से कई किसानों को राहत मिल सके।

3)    योजना के तहत अधिकत्तर किसानों को लाभ पहुंचेगा।

4)    योजना के अंतर्गत किसानों को सोलर पंप लगाने पर सरकार कुल लागत में छूट देती है। अधिक जानकारी के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं।

जानिए क्या है सोलर पंप योजना, अब योगी सरकार आपके खेत में लगाएगी पंप
Click to comment
To Top