प्रधानमंत्री योजना

जानिए क्या है ‘अटल मिशन रिजुवनेशन एंड अर्बन ट्रांसफॉर्मेशन’, कैसे आपका कस्बा बनेगा शहर

जानिए क्या है ‘अटल मिशन रिजुवनेशन एंड अर्बन ट्रांसफॉर्मेशन’, कैसे आपका कस्बा बनेगा शहर
जानिए क्या है ‘अटल मिशन रिजुवनेशन एंड अर्बन ट्रांसफॉर्मेशन’, कैसे आपका कस्बा बनेगा शहर

जब छोटे छोटे शहर भी लगेंगे प्यारे, जी हां, विकास की ओर एक और कदम बढ़ाते हुए मान्यवर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘अमृत योजना’ लागू की, जिससे न केवल गरीबों की सहायता संभव है बल्कि मूलभूत सुविधाएं भी स्थापित की जा सकेंगी। मोदी सरकार में छोटे शहरों को भी अच्छी सुविधाएं मिल सके इसी को ध्यान में रखकर पीएम मोदी के नेतृत्व में ‘अमृत योजना’ अस्तित्व में लाई गई।

जिसका मुख्य उद्देश्य घरों में बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराना है, जैसे कि जल आपूर्ति, सीवरेज, शहरी परिवहन आदि जिससे सभी नागरिकों के जीवन की गुणवत्ता में वृद्दि हो सके और ख़ासकर गरीब और विकलांग लोगों के जीवन में खुशहाली आएं।

क्या है ‘अटल मिशन रिजुवनेशन एंड अर्बन ट्रांसफॉर्मेशन योजना’

‘अटल मिशन रिजुवनेशन एंड अर्बन ट्रांसफॉर्मेशन’ योजना यानि की अमृत योजना परियोजना के अंतर्गत जिन कस्बों या क्षेत्रों को चुना जायेगा, वहां बुनियादी सुविधाएं जैसे- बिजली, पानी की सप्लाई, सीवर,सेप्टेज मैनेजमेंट, कूड़ा प्रबंधन, वर्षा जल संचयन, ट्रांसपोर्ट, बच्चों के लिए पार्क, अच्छी सड़क और चारों तरफ हरियाली, आदि विकसित की जायेंगी।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है उदय योजना, कैसे आपको गांव को मिलेगी 24x7 बिजली

इनके अतिरिक्त ई-गवर्नेन्स के माध्यम से कई ऐसी सुविधाएं दी जायेंगी जो लोगों के जीवन को सुगम बनायेंगी। हर क्षेत्र के अंतर्गत नगर निकाय की कमेटियां होंगी, जो इस परियोजना को सफल बनाने की जिम्मेदारी उठायेंगी।

‘अटल मिशन रिजुवनेशन एंड अर्बन ट्रांसफॉर्मेशन योजना’ का उद्देश्य

‘अटल मिशन रिजुवनेशन एंड अर्बन ट्रांसफॉर्मेशन योजना’ स्थापित करने का उद्देश्य शहरी जीवन की गुणवत्ता में सुधार लाने, स्वच्छ पर्यावरण उपलब्ध कराने, परिवहन व्यवस्था को सुधारने, शहरों की छवि खराब करती झुग्गी झोपड़ियों को हटाने और उनमें रहने वाले लोगों को वैकल्पिक सुविधा मुहैया कराने के लिए शहरी संसाधनों, स्रोतों और बुनियादी संरचनाओं का सक्षम ढंग से विकास करना आदि मकसद है।

अमृत मिशन के कार्यकाल का वर्गीकरण

पानी आपूर्ति

1)    जलाआपूर्ति प्रणालियों का निर्माण एंव रख रखाव करना
2)    पुराने जलापूर्ति प्रणालियों का पुनर्वास करना
3)    पुराने जल निकायों का कायाकल्प करना
4)    दुर्गम क्षेत्रों के लिए विशेष पानी व्यवस्था करना।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है ओडिशा सरकार की बीजू आत्मा निजुकी योजना, बेरोजगारों को मिलेगा सहारा

सीवेज संबधि सुविधा

1)    भूमिगत सीवेज प्रणाली का निर्माण एंव रख रखाव करना
2)    पुरानी सीवेज प्रणालियों एंव उपचार संयंत्रों का पुनर्वास करना
3)    जल संसाधनों की पुनरावृत्ति करना तथा अपशिष्ट जल का पुनउयोग करना।

सेप्टिक संबधि सुविधा

1)    मल प्रबंधन

2)    नाली एंव सेप्टिक टैंक की जैविक और यांत्रिकग सफाई

बाढ़ पानी हेतू सुविधा

प्रभावी बाढ़ जल निकासी प्रणाली का निर्माण एंव रख रखाव करना जिससे बाढ़ द्वारा होने वाली तबाही को रोका जा सकेगा।

शहरी विकास

1)   उचित फुटपाथों एंव रास्तों का निर्माण करना एंव गैर मोटर चालित परिवहन के लिए सुविधाएं उपलब्ध करना।

2)   विभिन्न स्थानों पर बहु स्तरीय पार्किंग का निर्माण एंव रख रखाव करना।

3)   विभिन्न स्थानों पर बस रैपिड ट्रांसपोर्ट सिस्टम की स्थापना करना।

4)   दूरसंचार।

5)   स्वास्थय।

6)   शिक्षा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 25 जून साल 2015 को शहरी भारत की तस्वीर बदलने के उद्देश्य से अमृत परियोजना यानि की ‘अटल मिशन रिजुवनेशन एंड अर्बन ट्रांसफॉर्मेशन योजना’ के साथ स्मार्ट सिटी मिशन और सभी के लिए मकान कार्यक्रम की शुरुआत की।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है एनटीआर आरोग्य रक्षा योजना कैसे करें ऑनलाइन आवेदन और पंजीकरण जानें

ये तीनों ही योजनाएं देश के शहरों से जुड़ी हूई हैं। इनमें 100 स्मार्ट सिटी बनाने, 500 शहरों के लिए अटल शहरी पुनर्जीवन और परिवर्तन मिशन और 2022 तक शहरी इलाकों में सभी के लिए घर बनाने की योजना शामिल की गई है।

अमृत योजना के तहत किया जाने वाला कार्य

1)   कस्बों का कायाकल्प करने वाली इस परियोजना का हर क्षेत्र में नियमित रुप से ऑडिट किया जाएगा। बिजली का बिल, पानी का बिल, हाउस टैक्स के अलावा सभी सुविधाएं ई-गवर्नेन्स के माध्यम से सुनिश्चित की जाएंगी।

2)   यह योजना उसी कस्बे में लागू होगी, जहां की जनसंख्या एक लाख से ज्यादा होगी।

3)   जिन राज्यों की सरकारें इसे अच्छे ढंग से आगे बढ़ायेंगी उनके लिए बजट आवंटन भी बढ़ा दिया जाएगा।

4)   योजना के अंतर्गत उन परियोजनाओं को भी शामिल किया जाएगा जो JNNURM के अधीन अधूरी रह गई थी।

Click to comment

Most Popular

To Top