जानिए क्या है उत्तर प्रदेश की मेधावी छात्र पुरस्कार योजना, मिल सकता है 22 हजार का इनाम
उत्तर प्रदेश

जानिए क्या है उत्तर प्रदेश की मेधावी छात्र पुरस्कार योजना, मिल सकता है 22 हजार का इनाम

जानिए क्या है उत्तर प्रदेश की मेधावी छात्र पुरस्कार योजना, मिल सकता है 22 हजार का इनाम

मेधावी छात्र पुरस्कार योजना पूर्व समाजवादी सरकार द्वारा चलाई गई योजना है। जिसका उद्देश्य 5वीं से ग्रेजुएशन तक के छात्रों को आर्थिक सहायता प्रदान करना है। ताकि प्रदेश के मेधावी छात्रों की पढ़ाई में पैसे की कमी के कारण कोई भी रुकवट पैदा न हो सके। इस योजना का लाभ वही स्टूडेंट्स उठा सकेंगे जिनके माता पिता का रजिस्ट्रेशन राज्य के श्रम विभाग में किया जा चूका होगा।

क्या है मेधावी छात्र पुरस्कार योजना

मेधावी छात्र पुरस्कार योजना उन लोगों को मिल सकेगा जिन्होंने श्रम विभाग में रजिस्ट्रेशन करवाया हुआ है। उन श्रमिको के बच्चो को पढाई में आर्थिक सहायता के रूप में सहायता प्रदान करना है। ताकि किसी भी बच्चे के लिए पढाई में रुकावट ना आए।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है बिहार स्टूडेंट क्रेडिट कार्ड योजना, मिलेंगे चार लाख रुपये

5वीं से ग्रेजुएशन तक मिलेगी मदद

इस योजना में सरकार की सहायता की धनराशि लड़के और लड़कियों के लिए भिन्न रखी गयी है।

यूपी सरकार 5वीं से 7वीं तक 70 फीसद नंबर पर लडकों को 4000 और लड़कियों को 4500 रुपये की सहायता धनराशि देगी।

8वीं क्लास में लड़कों को 5000 और लड़कियों को 5500 रुपये की आर्थिक सहायत देगी।

9वीं से 10वीं में 60 फ़ीसदी नंबर पर लड़कों को 5000 और लड़कियों को 5500 रुपये देगी।

11वीं से 12वीं में 60 फीसदी नंबरों के साथ लड़कों को 8000 और लड़कियों को 10000 रुपये मिलेंगे।

ग्रेजुएशन में 60 फीसदी नम्बरों के साथ सरकार 10000 से 22000 रुपये तक की आर्थिक मदद सरकार मुहैया कराएगी।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है हरियाणा सरकार की उड़ान योजना, लड़कियों को ऐसे मिलेगा लाभ

किनको मिलेगी सहायता

ये सहायता उन्हीं स्टूडेंट्स को मिलेगी जिनके माता या पिता का रजिस्ट्रेशन श्रम विभाग में होगा।

कैसे करना होगा आवेदन

कैसे करना होगा आवेदन 

कैसे करना होगा आवेदन

सबसे पहले श्रम विभाग से मेधावी छात्र पुरस्कार योजना का आवेदन भरना होगा।

आवेदन पत्र में स्कूल के प्रधानाचार्य से प्रमाणित फोटो लगा हुआ आवेदन दो फोटोकॉपी के साथ जमा करना होगा।

आवेदन पत्र के साथ संबंधित कक्षा में उत्तीर्ण होने की मार्क्स सीट की प्रमाणित फोटो कॉपी उस स्कूल के प्रधानाचार्य के दिए गए प्रमाण पत्र को भी लगाना होगा।

वहीं मान्यता प्राप्त स्कूलों से पास छात्र अगर क्लास पांच और आठ के हैं तो इसके लिए बेसिक शिक्षा अधिकारी का प्रमाण पत्र लगेगा।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है नीति आयोग, कैसे देश के विकास के लिए होता है काम

आवेदन पत्र के साथ इस बात का भी प्रमाण पत्र लगाना पड़ेगा कि छात्र शिक्षा ले रहे हैं। इसका उस स्कूल के प्रधानाचार्य से प्रमाणित प्रमाण पत्र आवेदन पत्र के साथ लगाना पड़ेगा।

आईटीआई, इंजीनियरिंग और डॉक्टरी की पढ़ाई करने वाले स्टूडेंट्स को वहां प्रवेश के प्रमाण पत्र या फिर प्रवेश की रसीद की फोटोकॉपी लगानी पड़ेगी।

इसके बाद जरूरी होने पर विभाग सारी चीजों को वेरीफाई करा सकता है। जिलाधिकारी से स्वीकृति होते ही छात्र के माता या पिता के नाम से जितनी भी राशि होगी उसका चेक जारी कर दिया जाएगा।

जानिए क्या है उत्तर प्रदेश की मेधावी छात्र पुरस्कार योजना, मिल सकता है 22 हजार का इनाम
Click to comment
To Top