जानिए क्या है लोहिया आवास योजना, क्या आपने भरा योजना का फॉर्म
उत्तर प्रदेश

जानिए क्या है लोहिया आवास योजना, क्या आपने लिया योजना का लाभ

‘डॉ. राम  मनोहर लोहिया आवास योजना’ पूर्व यूपी मुख्यमंत्री और समाजवादी पार्टी नेता अखिलेश यादव के नेतृत्व में शुरु की गई महत्वाकांक्षी योजनाओं में से एक है। लोहिया आवास योजना के नाम से चल रही आवासीय योजना केंद्र सरकार की ‘प्रधानमंत्री आवास योजना’ से कहीं गुना बेहतर है।

योजना के जरिए पूर्व यूपी सीएम ने 3 गुना से ज्यादा पैसे गरीबों के घर बनाने के लिए दिए है। योजना से जुड़ी पूरी जानकारी के लिए योजना को थोड़ा और करीब से जान लेना जरुरी है..

क्या है डॉ. राम मनोहर आवास योजना

डॉ. राम मनोहर आवास योजना या लोहिया आवास योजना कहीं जाने वाली इस योजना के तहत आवासहीन गरीबों को सरकार द्वारा मुफ्त घर बनाकर दिए जाते है इतना ही नहीं राज्य सरकार द्वारा लोहिया आवासों में किचन की व्यवस्था के साथ, पंखा, सोलर लाइट के लिए 5 हजार रुपए अलग से दिए जाते है।

योजना का उद्देश्य

योजना का उद्देश्य प्रदेश के ग्रामीण अनुसूचित जाति/ जनजाति एवं सामान्य जाति और अति पिछड़ा वर्ग शामिल करते हुए नि:शुल्क आवास उपलब्ध कराना है।

जिनके पास घर नहीं है और जिनकी वार्षिक पारिवारिक आय 3600 रुपए से कम है साथ ही जिनका नाम 2002 की बी.पी.एल श्रेणी में नहीं आते आदि को आवास सुविधा उपलब्ध करना है।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है भीम ऐप, जिसे पीएम मोदी ने भी किया इस्तेमाल

योजना के महत्वपूर्ण चरण

1)    लोहिया ग्रामीण आवास योजना पूरी तरह से राज्य सरकार द्वारा वित्त पोषित है। आवासों का आवंटन लाभार्थी परिवार की महिला सदस्य के नाम होगा। यदि महिला का अर्थात पत्नी का देहांत हो गया हो, तो आवास विधुर पति को भी आवंटित करने की छूट है।

2)    आवास के साथ स्वच्छ शौचालय निर्माण हेतु अनिवार्य रुप से जिला स्तर पर पंचायतीराज विभाग द्वारा संचालित ‘निर्मल भारत अभियान’ से युगपित कर निधियां प्राप्त की जाएंगी।

3)    योजना के अधीन निर्मित होने वाले प्रत्येक आवास के लिए एक लाख रुपए के अनुदान के अतिरिक्त 15000 रुपए की सीमा तक सोलर लाइट के लिए अलग से शासकीय सहायता अनुमन्य की जाएंगी। सोलर लाइट का सम्पूर्ण कार्य वैकल्पिक ऊर्जा विभाग के माध्यम से नेडा द्वारा पूर्ण कराया जाएगा।

4)    नेडा द्वारा प्रत्येक इकाई को प्रदान की जानें वाली सुविधा व टेक्निकल स्पेशिफिकेशन्स नियमानूसार निर्धारित कराकर भारत सरकार द्वारा स्वीकृत मानकों के अनुसार निविदा आमंत्रित कर दरें निर्धारित की जाएंगी।

5)    सोलर लाइट का नियमित रख रखाव एवं देखरेख के लिए 5 साल की वॉरंटी/ कम्प्रिहेन्सिव ऐनुअल मेन्टेनेन्स कान्ट्रेक्ट का भी नेडा द्वारा निविदा में ही प्रावधान कर व्यवस्था बनाई जाएगी।

6)    सोलर लाइट के सुचारु रुप से क्रियाशील रहने में कोई कठिनाई न हो एवं लाभार्थियों को सुविधा के उद्देश्य से नेडा द्वारा कॉल सेंटर स्थापित कर कठिनाइयों का समाधान किया जाएगा।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है दिल्ली सरकार की मेट्रो आवास योजना, मिलेंगे 2 बीएचके फलैट्स

प्रति आवास इकाई लागत

योजना के तहत कवरेज एरिया न्यूनतम 21.11 वर्ग मीटर में होगा और दो कमरे निर्मित किए जाएंगे। वहीं प्रति आवास की अनुमानित लागत 1,20,000 रुपए होगी।

योजना तहत लक्षित वर्ग

अनुसूचित जाति/जनजाति एवं सामान्य जाति के ऐसे परिवार जो आवासविहीन है मतलब जिनके पास घर नहीं है या फिर घर तो है लेकिन ऐसी स्थिति में है जो कभी भी ढह सकते है वहीं परिवार के पास उसे बनवाने के लिए पैसे नहीं है ऐसे परिवार की मदद ‘लोहिया आवास योजना’ के तहत की जाएगी।

इसके अतिरिक्त वह परिवार जिनका नाम बी.पी.एल सर्वे 2002 की सूची में सूचीबद्द न होने के कारण ‘इन्दिरा आवास योजना’ के पात्र न बन पाएं हो। इसके आलावा जिनकी अधिकतम परिवारिक वार्षिक आय 36000 रुपए तक सीमित हो, ऐसे परिवार को योजना के तहत लक्षित वर्ग में शामिल किया गया है।

सामान्य जाति में आने वाले लाभार्थी

·       सैन्य कार्यवाही के दौरान मारे गये रक्षा सैनिक/अर्द्धसैनिक बलों  के कर्मचारियों की विधवायें/परिवार।

·       सामान्य जाति के ऐसे परिवार, जिनकी मुखिया विधवायें अथवा एकल अविवाहित महिलायें हो।

इसे भी पढ़े   जानिए क्या है प्रधानमंत्री जन औषधि योजना, कैसे कम रेट पर मिलेंगी महंगी दवाई

·       शारीरिक एवं मानसिक रुप से विकलांग सामान्य जाति के व्यक्ति।

·       भूकंप, बाढ़ एवं नदी के कटान, चक्रवात, आग और प्राकृतिक आपदाओं तथा मनुष्य द्वारा उत्पन्न आपदाओं जैसे दंगा पीड़ित या भूमि अर्जन के फलस्वरुप आवासविहीन हुए परिवार।

·       सामान्य श्रेणी के अन्य परिवार।

वित्तिय वर्ष में सरकार द्वारा किया गया संशोधन

यूपी सरकार ने लोहिया ग्रामीण आवास योजना के लाभार्थियों के चिन्हांकन के लिए 20 फरवरी, 2013 तथा 14 सितंबर 2015 के दिशा निर्देशों में संशोधन किया है। वित्तिय वर्ष 2016-17 में लोहिया ग्रामीण आवास योजना के तहत लाभार्थियों का चिन्हांकन संशोधित व्यवस्था के अनुसार किया गया जाएगा।

फेरबदल की गई राशि

हाल ही में यूपी सरकार द्वारा लोहिया ग्रामीण आवास योजना के तहत दी जाने वाली धनराशि एक लाख 75 हजार रुपए बढ़ा दी गई है। इसके बाद योजना के तहत आवासहीन गरीबों को दो लाख 75 हजार रुपए दिए जाएंगे।

इससे पहले चयनित लाभार्थियों को एक लाख 60 हजार रुपए की धनराशि दी जाती थी। साथ ही घर बनाने के लिए 21.11 वर्ग मीटर जमीन भी दी जाती थी। इसमें सोलर सिस्टम, लाइट और पंखा आदि के लिए 15 हजार रुपए शामिल है।

जानिए क्या है लोहिया आवास योजना, क्या आपने लिया योजना का लाभ
Click to comment
To Top